ओप्पो एफ3 प्लस का रिव्यू

 
ओप्पो एफ3 प्लस का रिव्यू
ओप्पो ने पिछले साल ख़ासतौर पर फोटोग्राफी के लिए बनाए गए एफ-सीरीज़ स्मार्टफोन के साथ अच्छी शुरुआत की। कंपनी ने पिछले साल फरवरी में ओप्पो एफ1 (रिव्यू) लॉन्च किया था। इसके बाद कंपनी ने मिड रेंज सेगमेंट में ओप्पो एफ1एस (रिव्यू) और एफ1 प्लस (रिव्यू) पेश किया। ओप्पो अभी भी ऑनलाइन और ऑफलाइन चैनल पर इस सीरीज़ को जोर-शोर से प्रमोट कर रही है। और हम निश्चित तौर पर कह सकते हैं कि भारतीय बाजार में इस स्मार्टफोन का कंपनी की मजबूत हिस्सेदारी में बड़ा हिस्सा रहा है। अब, कंपनी ने एक नया सेल्फी स्मार्टफोन पेश किया है।
 
2017 में ओप्पो नई एफ3 सीरीज़ के साथ अपने ज्यादा ग्राहकों तक पहुंचना चाहती है। कंपनी का लक्ष्य एफ3 प्लस के जरिए सेल्फी दीवानों को आकर्षित करने का है। ओप्पो एफ3 प्लस पहला स्मार्टफोन है जिसमें डुअल फ्रंट कैमरा दिया गया है। वीवो वी5 प्लस (रिव्यू)की तरह, इसमें सेकेंड कैमरा का इस्तेमाल डेप्थ ऑफ फील्ड के लिए नहीं किया जाता है। इसकी जगह, ओप्पो एफ3 प्लस में ग्रुप सेल्फी के लिए वाइड-एंगल लेंस है।


ओप्पो आमतौर पर 20,000 रुपये के सेगमेंट में लोगों को खरीदारी के लिए उत्साहित करता रहा है। इसलिए 30,000 रुपये में एफ3 प्लस खरीदना चाहना थोड़ा मुश्किल हो सकता है? लेकिन क्या यह अपनी ऊंची कीमत को वाज़िब ठहराता है? आइये जानें

ओप्पो एफ3 प्लस डिज़ाइन और बनावट
ओप्पो ने डिज़ाइन के मामले में हमेशा बेहतर काम किया है और एफ3 प्लस में भी ऐसा ही है। मेटल यूनिबॉडी मजबूत लगती है और इसके गोल किनारे से फोन को पकड़ना आसान हो जाता है। सॉफ्ट-टच फिनिश  के बावज़ूद, हमें इस्तेमाल के दौरान फोन कभी फिसलना नहीं लगा। सॉफ्ट गोल्ड कलर आकर्षित करता है। 6 इंच डिस्प्ले का फोन के अगले हिस्से पर कब्ज़ा है। सैमसंग गैलेक्सी सी9 प्रो की तरह ही, इसे फोन के भी गिरने के खतरे के बिना एक हाथ से इस्तेमाल करना असंभव है।  कंपनी ने रियर पर एंटीना बैंड देकर कुछ अलग करने की कोशिश की है। शायद इसकी वज़ह प्रतिद्वंदियो से अलग दिखना है। 185 ग्राम के वज़न के साथ यह फोन थोड़ा भारी लगता है और 6 इंच डिस्प्ले के चलते इसे पॉकेट में रखना भी आसान नहीं है। अच्छी बात है कि ओप्पो अपने फोन को पतला रखने में कामयाब रही है।  

डिवाइस को अनलॉक करने के लिए फिंगरप्रिंट सेंसर तेजी से काम करता है। और पहले की तरह ही, आप इससे ऐप व फाइल भी अनलॉक कर सकते हैं। फोन में नेविगेशन के लिए बैकलिट कैपेसिटिव बटन हैं। ऊपर की तरफ डुअल फ्रंट कैमरा और सेंसर हैं। किनारे पर दिए गए बटन तक पहुंचना थोड़ा मुश्किल होता है। नीचे की तरफ हेडफोन शॉकेट, स्पीकर और माइक्रो-यूएसबी पोर्ट दिए गए हैं। पावर बटन के ऊपर की तरफ एक सिम ट्रे है। यह फोन हाइब्रिड सिम स्लॉट के साथ आता है।
 
Oppo

फुल एचडी रिज़ॉल्यूशन के चलते तस्वीरें और टेक्स्ट शार्प दिखते हैं और व्यूइंग एंगल भी अच्छा है। हालांकि, कलर ओवर सैचुरेटेड हैं और कभी कभी बहुत ज्यादा चमकदार दिखते हैं। टच रिस्पॉन्स भी अच्छा है और डिस्प्ले की सुरक्षा के लिए गोरिल्ला ग्लास 5 है। लेकिन फोन में टाइप-सी कनेक्टर का ना होना थोड़ा निराशाजनक है।  

कुल मिलाकर, हमें फोन के डिज़ाइन और फिनिश के बारे में कोई शिकायत नहीं है। अपने साइज़ के चलते इस फोन को इस्तेमाल करना सबसे आसान नहीं है। फोन में यूएसबी टाइप-सी का ना होना निराश करता है, ख़ासकर यह देखते हुए कि यह एक अपर मिड-रेंज 2017 स्मार्टफोन है। बॉक्स में आपको एक हेडसे, ईयर टिप्स, एक सिलिकॉन केस, इंस्ट्रक्शन, एक सिम इजेक्टर, एक यूएसबी केबल और एक पावर अडेप्टर मिलता है, जो ओप्पो की वीओसीसी फ्लैश चार्ज मिनी स्टैंडर्ड है। फोन में पहले से एक स्क्रीन प्रोटेक्टर इंस्टॉल आता है।

ओप्पो एफ3 प्लस स्पेसिफिकेशन और फ़ीचर
एफ3 प्लस में क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 652 प्रोसेसर और 4 जीबी रैम है। इनबिल्ट स्टोरेज 64 जीबी है। स्टोरेज को माइक्रोएसडी कार्ड के जरिए (256 जीबी तक) बढ़ाया जा सकता है। ये स्पेसिफिकेशन बेहद शानदार है। बेंचमार्क नंबर उतने अच्छे नहीं हो सकते जितने कि स्नैपड्रैगनन 821 प्रोसेसर के साथ वाल फोन में आते हैं, जैसे कि इसी कीमत वाले वनप्लस 3टी से मिले।

एफ3 प्लस से बेंचमार्क में शानदार आंकड़े मिले। दूसरे स्पेसिफिकेशन की बात करें तो डुअल बैंड वाई-फाई बी/जी/एन/एसी, ब्लूटूथ 4.1, जीपीएस, यूएसबी-ओटीजी  और जायरोस्कोप जैसे सामान्य सेंसर मिलेंगे। फोन में एफएम रेडियो और एनएफसी जैसे फ़ीचर हैं।
 
Oppo

फोन में एफ रेडियो और एनएफसी जैसे फ़ीचर हैं जो कुछ लोगों को बेहद पसंद आ सकते हैं। फोन में नूगा की जगह एंड्रॉयड मार्शमैलो आधारित कलर ओएस 3.0 का होना निराश करता है। हालांकि, फोन में गूगल असिस्टेंट है और कस्टम स्किन भी पॉलिश्ड व नई नज़र आती है। फोन में गूगल असिस्टेंट भी है और यह फोन में अच्छे से काम करता है। इसके अलावा कलरओएस में पिछले फोन के मुकाबले ज्यादा कुछ नहीं बदला है। ओप्पो ए57 में भी हमने रिव्यू के दौरान इस ओएस को देखा था। इंटरफेस और आइकन आईओएस जैसा अहसास देते हैं लेकिन यह चीनी निर्माताओं द्वारा दूसरे फोन की तरह एकदम नकल नहीं हैं। मुख्य सेटिंग ऐप में जाकर अधिकतर सिस्टम ऐप जैसे गैलरी और कैमरा इस्तेमाल किया जा सकता है।

फोन में गूगल सूट, फेसबुक, इंस्टाग्राम और डब्ल्यूपीएस ऑफिस पहले से इंस्टॉल आते हैं। ओप्पो ने उन लोगों के लिए अपना ऐप स्टोर भी दिया है जो प्ले स्टोर में साइनइन नहीं करना चाहते।

ओप्पो एफ3 प्लस परफॉर्मेंस
कलरओएस को अचछी तरह ऑप्टिमाइज़ किया गया है, फोन की सामान्य परफॉर्मेंस और स्पेसिफिकेशन बेहद अच्छे हैं। ऐप तेजी से लोड होते हैं। थीम स्टोर और मोशन जेस्चर जैसे अतिरिक्त फ़ीचर भी हैं। वन हैंडेड मोड के चलते एफ3 प्लस को एक हाथ से इस्तेमाल किया जा सकता है। परफॉर्मेंस बेहद अच्छी है और फोन में मल्टीटस्किंग और 3डी गेम खेलते समय कोई समस्या नहीं हुई। हर समय रैम खाली रहती है और फोन कभी हैंग भी नहीं हुआ। हमारे लिए 4जी नेटवर्क ने हमेशा अच्छे से काम किया और वीओएलटीई सपोर्ट भी ठीक तरह से काम करता है। हमारे रिव्यू के दौरान फोन में कॉल क्वालिटी में भी कोई समस्या नहीं हुई। फोन का ऊपरी हिस्सा और किनारे चार्जिंग और ऐप या फाइल डाउनलोड के समय गर्म हो जाते हैं। रेगुलर इस्तेमाल के समय फोन गर्म हो जाता है।
 
Oppo

एफ3 प्लस में बड़े स्क्रीन का फायदा वीडियो प्लेबैक के समय दिखता है। स्पीकर से मिलने वाली ऑडियो क्वालिटी भी बहुत ख़राब नहीं है। साथ आने वाले हैंडसेट थोड़े छोटे हैं लेकिन डायरेक ऑडियो से मदद मिलती है।  

सेकेंडरी फ्रंट कैमरे को व्यवहारिक इस्तेमाल के लिए दिया गया है और यह अच्छी तरह काम करता है। वीवो वी5 प्लस में डेप्थ-ऑफ-फील्ड ट्रिक की तरह ना होकर, एफ3 प्लस का 8 मेगापिक्सल का सेंसर ज्यादा वाइड फील्ड ऑफ व्यू के लिए दिया गया है। इससे एक फ्रेम में ही कई सारे लोगों के साथ ग्रुफ सेल्फी ली जा सकती है। अच्छी रोशनी में ली गईं तस्वीरें डिटेलिंग के साथ आती हैं लेकिन इसमें एक फिश-आई इफेक्ट है। सेकंडरी फ्रंट कैमरा अपर्चर एफ/2.4 है जो कि नॉयज़ मुक्त शॉट लेने के लिए  पर्याप्त नहीं है।
 
oppo

वहीं दूसरी तरफ 16 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा कम रोशनी में भी अच्छी तस्वीरें देता है और इसका श्रेय अपर्चर एफ/2.0 को जाता है। शटर बटन के पास दिए एक आइकन से आसानी से दोनों कैमरों के बीच स्विच कर सकते हैं। रात के समय में स्क्रीन फ्लैश बेहद काम आता है और हमें इसका ऑटोमेटिकली एडजस्ट हो जाना अच्छा लगा।

दोनों फ्रंट कैमरों के साथ अच्छा करने के अलावा, ओप्पो ने रियर कैमरे के साथ भी अच्छा काम किया है। फोन में 16 मेगापिक्सल का सेंसर है लेकिन यह डुअल पीडीएएफ और अपर्चर एफ/1.7 के साथ आता है। कैमरे के बाकी स्पेसिफिकेशन सैमसंग गैलेक्सी एस7 और मोटो जी5 प्लस वाले हैं, वाइड अपर्चर के चलते नॉयज़ कम होने और कम रोशनी में चमकदार शॉट आने मदद मिलती है। लेकिन परफॉर्मेंस सैमसंग गैलेक्सी एस7 से बहुत ज्यादा दूर है।

कम रोशनी में ली गई मैक्रो शॉट अच्छे आते हैं। लेकिन टेक्सचर बहुत शार्प नहीं है। बिना ज़ूम किए तस्वीरें अच्छी दिखती हैं। 4के तक वीडियो रिकॉर्डिंग संभव है और क्वालिटी भी अच्छी है। हालांकि, हमें फोकस में समस्या हुई। हालांकि, स्टेबिलाइज़ेशन का इस्तेमाल भी किया जा सकता है।
 
oppo
oppo
oppo

कैमरा ऐप में फ़ीचर थोड़े कम हैं लेकिन जिन भी ऐप की जरूरत होती है वो सब मिलते हैं। मैनुअल कंट्रोल के लिए एक्सपर्ट मोड, फिल्टर, पैनोरमा और टाइलैप्स वीडियो है। फोकस स्पीड अच्छी है और हमें कम रोशनी में भी इसके धीमे होने की समस्या नहीं हुई।

4000 एमएएच की बैटरी सामान्य इस्तेमाल के समय एक पूरे दिन चलती है। हमारे एचडी वीडियो लूप टेस्ट में बैटरी ने 17 घंटे और 12 मिनट तक हमारा साथ दिया। यह फोन तेजी से बैटरी चार्ज करने के लिए वीओसीसी फ्लैश चार्ज मिनी टेक्नोलॉजी के साथ आता है।   
 
Oppo

हमारा फैसला
30,990 रुपये की कीमत के साथ ओप्पो आमतौर पर पेश किए जाने वाले अपने स्मार्टफोन से ज्यादा प्रीमियम डिवाइस पेश करने में सफल रही है। एफ3 प्लस को वनप्लस 3टी और सैमसंग गैलेक्सी ए5 (2017) से कड़ी टक्कर मिलती है। इसके अलावा 32,000 रुपये वाले एलजी जी5 से भी इसकी प्रतिद्वंदिता है।

एफ3 प्लस में आपको कीमत के लिहाज़ से बहुत कुछ मिलेगा। यह एक अच्छी बनावट और स्टायलिश लुक के साथ आने वाला डिवाइस है। फोन में शार्प डिस्प्ले, शानदार बैटरी लाइफ, क्षमतावान प्रोसेसर और अच्छे कैमरे हैं।

फोन में एनएफसी और एफएम रेडियो का ना होना निराश करता है। इसके अलावा डिस्प्ले के ओवरसैचुरेटेड कलर भी थोड़ा निराश करते हैं। लेकिन, हमें फोन के एंड्रॉयड नूगा के साथ ना आना सबसे बड़ी कमी लगी। क्योंकि अब एंड्रॉयड ओ की घोषणा भी कर दी गई है।

हालांकि, इस कीमत के साथ  हमारा मानना है कि कम से कम यूज़र को दो साल तक सॉफ्टवेयर के लिए उचित सपोर्ट मिलते रहना चाहिए। ओप्पो एफ3 प्लस उन लोगों के लिए एक शानदार विकल्प है जो हाई-परफॉर्मेंस वाले एक ऐसे फोन क  तलाश में है जिससे अच्छी सेल्फी भी ली जा सके। फोन की कीमत से कुछ लोग मायूस हो सकते हैं, लेकिन ओप्पो समय पर सॉफ्टवेयर अपडेट देना शुरू कर दे तो एफ3 प्लस एक बुरा विकल्प नहीं है।  
  • डिज़ाइन
  • डिस्प्ले
  • सॉफ्टवेयर
  • परफॉर्मेंस
  • बैटरी लाइफ
  • कैमरा
  • वैल्यू फॉर मनी

डिस्प्ले

6.00 इंच

बैटरी क्षमता

4000 एमएएच

प्रोसेसर

1.95 गीगाहर्ट्ज़ ऑक्टा-कोर

फ्रंट कैमरा

16 मेगापिक्सल

रिज़ॉल्यूशन

1080x1920 पिक्सल

रैम

4 जीबी

ओएस

एंड्रॉ़यड 6.0

स्टोरेज

64 जीबी

रियर कैमरा

16 मेगापिक्सल
रॉयडन सरेजो रॉयडन सरेजो ज़ुबान से फिट होने का शौक रखते हैं। टेक की दुनिया का सब कुछ पसंद है। और कंप्यूटर पार्ट्स की जमखोरी की आदत से धीरे-धीरे ... और भी »

संबंधित ख़बरें

 
लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें।