आईफोन एसई का रिव्यू

 
आईफोन एसई का रिव्यू
आईफोन एसई को आप 'नई बोतल में पुरानी शराब' कहकर आसानी से नकार सकते हैं। पर वाकई में नए आईफोन में आईफोन 6एस जैसे स्पेसिफेकशन और इसका डिजाइन आईफोन 5एस जैसा है। तकनीकी तौर पर कहा जा सकता है कि आईफोन एसई 'नई बोतल में पुरानी शराब' ही है। आईफोन एसई तकनीकी तौर पर कोई नए आयाम स्थापित नहीं करता है। लेकिन क्यूपर्टिनो स्थित कंपनी की नई रणनीति को जरूर पेश करता है।

आईफोन 5सी को छोड़ दें तो ऐप्पल के 'अफॉर्डेबल आईफोन' पेश करने की रणनीति पुराने मॉडल के दाम में डिस्काउंट देने की रही है। जब एक नया आईफोन लॉन्च किया गया तो पुराने आईफोन की कीमत अमेरिका में 99 डॉलर (6,500 रुपये) हो गई जबकि फोन को इससे पहले 199 डॉलर (13,100 रुपये) की ऑन कॉन्ट्रेक्ट कीमत पर बेचा गया था। कंपनी ने  इसी रणनीति के सहारे अमेरिका और दूसरे पुराने बाजार में तीन साल पुराने आईफोन की बिक्री रुक जाने पर इसे भारत जैसे देशों में कम कीमत में बेचना जारी रखा है। बिना किसी एक्सचेंज ऑफर के साथ पुराने आईफोन मॉडल को आज 17,000 रुपये की कीमत पर खरीदा जा सकता है।
 
 बायें से दायें- आईफोन एसई, आईफोन 6एस और आईफोन 6एस प्लस

399 डॉलर (26,300) रुपये की कीमत पर लॉन्च होने वाले आईफोन को बनाने में 150 डॉलर (9,900) रुपये की लागत आई है। यह लागत अब तक के सबसे सस्ते नए आईफोन पर आई लागत में सबसे कम है। कम कीमत के साथ ऐप्पल का लक्ष्य ज्यादा से ज्यादा यूजर तक पहुंचना है। कंपनी के आईफोन की लगातार गिरती बिक्री को देखते हुए यूजर का बढ़ना सबसे ज्यादा जरूरी है।

आईफोन एसई को कॉम्पेक्ट फोन पसंद करने वाले यूजर के हिसाब से बनाया गया है। जब ऐप्पल ने आईफोन 6 और आईफोन 6 प्लस लॉन्च किये थे तो बड़े स्क्रीन साइज़ की वजह से इन फोन की जबरदस्त बिक्री हुई थी। लेकिन हर कोई बड़ेसक्रईन वाले स्मार्टफोन पसंद नहीं करता। ऐप्पल का कहना है कि 2015 में कंपनी ने 4 इंच स्क्रीन वाले 3 करोड़ से ज्यादा आईफोन बेचे। लेकिन इन आईफोन की इतनी ज्यादा बिक्री की एक बड़ी वजह इनकी कम कीमत भी है लेकिन यह कहना सही होगा कि 4 इंच स्क्रीन वाले स्मार्टफोन की बाजार में अपनी एक अहम हिस्सेदारी है।

आईफोन एसई को भारत और दूसरे देशों में खरीददार मिलते हैं तो आईफोन एसई बनाने का इरादा कामयाब हो सकता है। आज हम ऐप्पल आईफोन के नए आईफोन एसई का रिव्यू करेंगे और जानेंगे इस फोन में क्या है खास।



डिजाइन और डिस्प्ले
जैसा कि जाहिर है कि आईफोन एसई बिल्कुल आईफोन 5एस की तरह ही दिखता है। अगर हमारी रिव्यू यूनिट रोज गोल्ड कलर की नहीं होती तो हम इसे आसानी से 2013 में लॉन्च हुए आईफोन को समझने की भूल कर सकते थे। हम बड़े आईफोन पर दिखने वाले एंटीना लाइन के फैन नहीं है इसलिए आईफोन एसई को बना शिकायत के एक अच्छे विंटेज डिजाइन वाला आर्फोन कहा जा सकता है।

आईफोन एसई को स्क्रीन के हर किनारे पर एक हाथ से आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है। लेकिन अगर कोई आईफोन 6एस प्लस को अपने प्राइमरी फोन की तरह यूज करने के बाद आईफोन एसई इस्तेमाल करता है तो शुरुआत में छोटे स्क्रीन के साथ टाइप करना थोड़ा मुश्किल लगता है लेकिन जल्द ही आईओएस के ऑटोकरेक्ट की मदद से जल्द ही इसकी आदत हो जाएगी। छोटे स्क्रीन के साथ सिर्फ 113 ग्राम वजन वाला आईफोन एसई हाथ में लेने पर बहुत हल्का लगता है और आसानी से आपकी जेब में फिट हो सकता है।
 

आईफोन 5एस की तरह ही 4 इंच स्क्रीन वाले आईफोन का डिस्प्ले एचडी नहीं है लेकिनआपको डिवाइस इस्तेमाल करते समय कभी भी ऐसा अहसास नहीं होगा। फोन पर टेक्स्ट शार्प दिखता है और डिस्प्ले खासा चमकदार है। सूरज की रोशनी में भी फोन को इस्तेमाल करते समय हमें कोई दिक्कत नहीं हुई। लेकिन अगर आप फोन पर बहुत ज्यादा वीडियो देखते हैं तो आपको छोटे स्क्रीन पर शानदार अनुभव नहीं मिल पाएगा।

परफॉर्मेंस
आईफोन एसई में भी ऐप्पल ए9 चिपसेट है जिसे आईफोन 6एस और 6एस प्लस में इस्तेमाल किया गया है। फोन में 2 जीबी रैम है हालांकि, ऐप्पल की वेबसाइट पर इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई है। उम्मीद के मुताबिक ही, फोन में हम सब कुछ काफी आसानी से चला पाए। कम नेटवर्क वाले एरिया में आईफोन एसई ने आईफोन 6एस और आईफोन 6एस प्लस से ज्यादा बेहतर काम किया लेकिन इसके अलावा फोन की बाकी ओवरऑल परफॉर्मेंस आईफोन 6एस की तरह ही है।
 

आईफोन एसई में कुछ बड़े फर्क हैं जैसे आईफोन एसई में 3डी टच नहीं दिया गया है जिससे यूजर को क्विक एक्शन और पीक-पॉप जैसी चीजों का मजा नहीं मिलेगा। आईफोन 6एस और 5एस प्लस के रिव्यू के समय हमने 3डी टच को अपार संभावनाओं वाली टेक्नोलॉजी बताया था।

आईफोन एसई धीमी टच आईडी के साथ आता है जिससे कुछ लोगों को समस्या हो सकता है लेकिन हमारे हिसाब से यह एक अच्छा फीचर है। फोन में दिया फिंगरप्रिंट स्कैनर काफी अच्छा है और तेजी से काम करता है। आईफोन एसई में बैरोमीटर भी नहीं दिया गया है। आईफोन 6 और उसके बाद आए मॉडल में बैरोमीटर फीचर उपलब्ध था।

सबसे बड़ा फर्क जो यूजर महसूस करेंगे वो है आईफोन एसई में दिया गया 1.2 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा (फेसटाइम कैमरा) जो एफ/2.4 अपर्चर के साथ आता है। जबकि आईफोन 6एस में एफ/2.2 अपर्चर से लैस 5 मेगापिक्सल कैमरा दिया गया था। उम्मीद के मुताबिक, आपको आईफोन एसई से कम डिटेल वाली तस्वीरें मिलेंगी। हालांकि, आपको यह फर्क तभी महसूस होगा जबक आप तस्वीरों को बड़े स्क्रीन पर जूम करें। कैमरा रेटिना फ्लैश सपोर्ट करता है। हमें आईफोन एसई में यह सबसे पसंदीदा फीचर लगा। इसके अलावा लाइव फोटो को भी आईफोन एसई सपोर्ट करेगा।

बात करें आईफोन एसई के रियर कैमरा परफॉर्मेंस की तो अधिकतर समय हर तरह की रोशनी में आपको अच्छा कैमरा रीप्रोडक्शन देखने को मिलेगा। लेकिन कम रोशनी में फोन से उतना बेहतर परिणाम नहीं मिलता जितना कि हाल ही में लॉन्च हुए सैमसंग के पुराने और लेटेस्ट फ्लैगशिप स्मार्टफोन गैलेक्सी एस7 से मिलता है।
 

अपनी पिछली जेनरेशन फोन की तरह ही आईफोन एसई 16 जीबी स्टोरेज बेस वेरिएंट के साथ आता है दो कि आइडियल नहीं है लेकिन फोन के टारगेट ऑडियेंस और ऐप्पल के वर्तमान स्मार्टफोन को देखते हुए इससे समझौता किया जा सकता है। उम्मीद करते हैं कि आईफोन द्वारा लॉन्च हुआ 16 जीबी स्टोरेज वाला आखिरी आईफोन होगा।

हमारे बैटरी लूप टेस्ट में आईफोन एसई से लगातार 12 घंटे तक वीडियो देख सके जो कि आईफोन 6एस से 20 प्रतिशत ज्यादा है। जिसकी एक वजह आईफोन एसई के छोटे और कम रिरॉल्यूशन वाले डिस्प्ले को माना जा सकता है। बहरहाल, सामान्य तौर पर इस्तेमाल करने के लिए हमें आईफोन एसई में 6एस से बहुत ज्यादा फर्क मालूम नहीं पड़ा। आईफोन एसई को बिना चार्ज किये एक दिन तक इस्तेमाल किया जा सकता है।
 

हमारा फैसला
भारत में आईफोन एसई की कीमत 39,000 रुपये रखी गई है जो किसी भी तरह से ऐसी कीमत नहीं है जिससे आईफोन का इस्तेमाल करने वालों की संख्या अचानक से बढ़ जाए। लेकिन भारतीय बाजार के हिसाब से आईफोन के इस प्रोडक्ट को महत्वपूर्ण माना जा सकता है।

फोन के फ्रंट कैमरे को छोड़ दें तो आईफोन एसई एक पूरा पैकेज है और इसमें वो सबकुछ है जिसकी उम्मीद एक ऐप्पल प्रोडक्ट से की जाती है। आईफोन एसई हर तरह से आईफोन 6एस की तरह ही एक बेहतर फोन है जिसे छोटे स्क्रीन साइज़ के साथ पेश किया गया है।

अगर आप फोन खरीदने की सोच रहे हैं और आपका बजट फिक्स्ड है लेकिन आप ब्रांड की परवाह नहीं करते तो सैमसंग गैलेक्सी एस6 आईफोन एसई की कीमत में उपलब्ध है। पिछले साल लॉन्च हुए स्मार्टफोन में गैलेक्सी एस6 सबसे ज्यादा पसंद किया गया है।
  • डिज़ाइन
  • डिस्प्ले
  • सॉफ्टवेयर
  • परफॉर्मेंस
  • बैटरी लाइफ
  • कैमरा
  • वैल्यू फॉर मनी
  • खूबियां
  • शानदार परफॉर्मेंस
  • बेहतरीन रियर कैमरा
  • कमियां
  • कमज़ोर सेल्फी कैमरा
  • इनबिल्ट स्टोरेज की शुरुआत 16 जीबी से

डिस्प्ले

4.00 इंच

फ्रंट कैमरा

1.2 मेगापिक्सल

रिज़ॉल्यूशन

640x1136 पिक्सल

रैम

2 जीबी

ओएस

आईओएस 9.3

स्टोरेज

16 जीबी

रियर कैमरा

12 मेगापिक्सल
लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें।
VIVO V5
कुणाल दुआ फुल-टाइम एडिटर। लेखक बनने की ख़्वाहिश। और भी »

संबंधित ख़बरें

 
 
 

Advertisement

VIVO V5