अपने पुराने स्मार्टफोन को ऐसे बनाएं सीसीटीवी कैमरा

 
अपने पुराने स्मार्टफोन को ऐसे बनाएं सीसीटीवी कैमरा
शायद आप हर साल या हर दो साल के बाद अपना फोन अपग्रेड करते हैं। लेकिन नया फोन लेने के बाद जब आप पुराने हैंडसेट को बेचने की कोशिश करते हैं तो स्मार्टफोन की कीमत बहुत ज्यादा नहीं मिलती। स्मार्टफोन को दोबारा बेचने पर कीमत बहुत जल्दी कम हो जाती है। लेकिन कई बार आ कम कीमत में पुराना फोन बेचने की जगह उसे घर पर पड़ा रहने देते हैं।

अगर आप अपने पुराने फोन को अच्छी जगह इस्तेमाल करना चाहते हैं तो हम आज आपको बताएंगे एक ऐसा तरीका जिसे आप बहुत ज्यादा वक्त और मेहनत के बिना ही आजमा सकते हैं। क्या आपको पता है कि आप अपने पुराने फोन को बिना किसी ज्यादा परेशानी के एक सिक्योरिटी कैमरा (सीसीटीवी कैमरा) में बदल सकते हैं? जानें कैसे

अपने घर या ऑफिस में एक सीसीटीवी (क्लोज्ड सर्किट टेलीविजन) मॉनिटिरिंग करने और सिक्योरिटी कैमरा लगाने के अलग-अलग कारण हो सकते हैं। विशेष सीसीटीवी कैमरा को इंस्टॉल करवाना खासा महंगा होता है और आप इसे खुद लगा भी नहीं सकते। लेकिन इसकी जगह एक पुराने फोन का इस्तेमाल करना बहुत सस्ता जुगाड़ है। इसके लिए आपके पास सिर्फ एक स्मार्टफोन या टैबलेट और एक सही सॉफ्टवेयर होने की जरूरत भर है।

बात जब सीसीटीवी ऐप की होती है तो इस कैटेगरी में सैकड़ों ऐप हैं। अगर आप एंड्रॉयड प्ले स्टोर में 'सीसीटीवी' सर्च करते हैं तो कई सारे परिणाम खुलकर सामने आजाते हैं।
 

इस लिस्ट में से सॉफ्टवेयर ढूंढना किसी चुनौती से कम नहीं है। हमने अधिकतर उन ऐप को टेस्ट किया जो मुफ्त में उपलब्ध थे। गूगल प्ले पर मौजूद पॉपुलर ऐप में 'सीसीटीवी मोबाइल' सैमसंग गैलेक्सी एस7 या लेनोवो वाइब के4 नोट पर नहीं खुला। गूगल प्ले पर अच्छी रेटिंग वाले एक दूसरे ऐप 'व्यूट्रॉन्स सीसीटीवी डीवीआर' ने क्रैश होने से पहले कुछ मिनट तक काम किया और रीइंस्टॉल होने के बाद भी परेशानी ठीक नहीं हुई।

कई हजार लोगों द्वारा डाउनलोड किया जा चुका लाइनसीसीटीवी ऐप एक फर्जी ऐप ही साबित हुआ। हमने कई दूसरे ऐप भी टेस्ट किये और हमारा अनुभव बेहद खराब रहा। लेकिन 'होम सिक्योरिटी कैमरा-अल्फ्रेड' और कैमरा ऑनलाइन: सीसीटीवी आईपी कैम के रूप में हमें अपने काम के ऐप मिल गए। इन दोनों ऐप ने अच्छे से काम किया हालांकि इन ऐप में कई ऐसे फीचर की कमी है जो हमने दूसरे ऐप में देखे। एक दूसरे प़पुलर ऐप 'फेचकैम' का यूजर इंटरफेस बेहद खराब है जिससे इसे सेटअप करना मुश्किल हो जाता है।

आखिरकार, हमें 'एटहोम' नामक ऐप में सभी काम की चीजें एक जगह मिलीं। स्पष्ट और सरल यूआई और फीचर के अलावा यह ऐप काफी भरोसेमंद भी है और यही इसे दूसरे ऐप से अलग बनाता है।

अब आप एक पुराना फोन हाथ में लीजिए और जिस ऐप को इंस्टॉल करना है उसे डाउनलोड कर सेटअप कीजिए। इसके लिए आपके एक पुराने फोन की जरूरत होगी जो वाई-फाई कनेक्शन के साथ काम कर रहा हो। फोन को एक ऐसी जगह फिक्स कीजिए जहां से आप इसे चार्जर से ठीक से कनेक्ट कर पाएं क्योंकि आप नहीं चाहेंगे कि रिकॉर्डिंग के बीच में ही बैटरी खत्म हो जाए। इसके अलावा वीडियो फीड को प्ले करने के लिए आपको एक दूसरे फोन या टैबलेट की भी जरूरत पड़ेगी। या आप अपने विंडोज पीसी पर भी वीडियो व्यू कर सकते हैं। अब कुछ आसान टिप्स से जानें किस तरह बना सकते हैं अपने फोन को एक सिक्योरिटी कैमरा।


1) अपने पुराने स्मार्टफोन पर एटहोम वीडियो स्ट्रीमर- मॉनीटर (एंड्रॉयड | आईओएस) इंस्टॉल कीजिए। इस हैंडसेट को कैमरा फीड की स्ट्रीमिंग के लिए इस्तेमाल किया जाएगा।

2) अब, जिस हैंडसेट पर सीसीटीवी फीड चाहते हैं उस पर एटहोम मॉनीटर ऐप (एंड्रॉयड | आईओएस) डाउनलोड करें। इस फोन या टैबलेट को कैमरा फीड को व्यू करने के लिए इस्तेमाल किया जाएगा।

3) अब 'कैमरा' और कैमरा फीड व्यू करने वाले डिवाइस पर ऐप लॉन्च करें। जैसे ही ऐप ऑनलाइन होंगे एटहोम वीडियो स्ट्रीमर एक यूजरनेम और पासवर्ड के साथ यूनीक कनेक्शन आईडी (सीआईडी) जेनरेट करेगा। इसके बाद फीड को मॉनीटर करने वाले फोन में आपको ये जानकारी डालनी होगी।
 

या फिर हमारी तरह आप भी क्यूआर कोड को स्कैन कर अपना थोड़ा समय बचा सकते हैं।

4) अब जिस डिवाइस को फीड मॉनीटरिंग के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है उस पर एटहोम मॉनीटर ऐप (आईओएस पर एटहोम कैमरा) लॉन्च करें। इसके बाद अकाउंट डिटेल डालें और पहले से जेनरेट हुए क्यूआर कोड को इस्तेमाल कर 'एड अ फीड' पर क्लिक करें।

कोड स्कैन करें और अब आपका सीसीटीवी स्ट्रीमर और रिसीवर काम करना शुरू कर देंगे।
 

5) क्या आप अपने डेस्कटॉप पर सीसीटीवी स्ट्रीम एक्सेस करना चाहते हैं? अगर आप विंडोज इस्तेमाल कर रहे हैं तो ऐसा संभव है। इसके लिए आपको एटहोम कैमरा डेस्कटॉप क्लाइंट को डाउनलोड करने और इंस्टॉल करने की जरूरत है।

अगर आपके सिस्टम में वेबकैम लगा है तो स्टेप 3 की तरह क्यू आर कोड स्कैन कर सकते हैं नहीं तो आपको स्टेप 2 की तरह यूजरनेम जेनरेट कर लॉग-इन करना होगा।
 

आप डेस्कटॉप क्लाइंट में चार कैमरा स्ट्रीम एड और मॉनीटर कर सकते हैं।

6) इस ऐप में शेड्यूल्ड रिकॉर्डिंग और टू-वे टॉक जैसे फीचर शामिल हैं आप फ्रंट व रियर कैमरे के बीच स्विच करने के साथ ही रिमोट से एलईडी फ्लैश को मॉनीटर कर सकते हैं।
 

सबसे अहम बात है कि आप स्ट्रीम रिकॉर्ड कर सकते हैं या स्नैपशॉट भी ले सकते हैं। वीडियो एसडी क्वालिटी एमपी4 फॉरमेट में स्टोर होती है।

एक मिनट की स्ट्रीम स्टोर करने पर 3एमबी की स्टोरेज जाती है। इसका मतलब है कि एक पूरे दिन (24 घंटे) की फीड के लिए करीब 4.5 जीबी स्टोरेज की जरूरत होगी, इसलिए अगर आप हर दिन कैमरे का इस्तेमाल करते हैं तो आपको हर दिन फाइल को अपने कम्प्यूटर में ट्रांसफर करने की जरूरत होगी।

अब बात डेटा यूज़ेज़ की, एटहोम स्ट्रीमर 10 मिनट में 64 एमबी की खपत करता है। व्यू करने पर भी इतने ही डेटा की खपत होती है।

इस ऐप का लगभग हर फीचर बिना किसी अपग्रेड के ही काम करता है। सिर्फ एक फीचर जिसके लिए पैसे देने की जरूरत है वो है कंपनी के सर्वर पर स्ट्रीम के बैकअप के लुए क्लाउड सर्विस का इस्तेमाल, जोकि ऑप्शनल है।

बस, इस छोटी सी प्रक्रिया के बाद आप अपने पुराने फोन को एक सीसीटीवी कैमरे में बदल सकते हैं। है ना कितना आसान! अब चाहें आपका घर हो या ऑफिस, अगर आपके पास पुराने डिवाइस हैं तो आप इन्हें अच्छे से इस्तेमाल कर सकते हैं।
 
 
 

Advertisement

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें।