चौथी तिमाही में भारतीय स्मार्टफोन बाजार पर रहा विदेशी कंपनियों का कब्ज़ा

 
चौथी तिमाही में भारतीय स्मार्टफोन बाजार पर रहा विदेशी कंपनियों का कब्ज़ा
रिसर्च फर्म आईडीसी के अनुसार त्योहारी ब्रिकी के बाद नोटबंदी व अन्य कारणों के चलते अक्तूबर- दिसंबर की तिमाही में देश में स्मार्टफोन की ब्रिकी सालाना आधार पर 2.58 करोड़ यूनिट पर स्थिर रही।

वहीं जुलाई सितंबर 2016 तिमाही की तुलना में स्मार्टफोन की ब्रिकी चौथी तिमाही में 20.3 प्रतिशत घटी। इसके अनुसार चौथी तिमाही 2016 में स्मार्टफोनों की ब्रिकी 2.58 करोड़ इकाई पर स्थिर रही जो कि चौथी तिमाही 2015 के समान ही है।

चौथी तिमाही में बाजार की भागीदारी की बात करें तो इस बार फिरंगी टॉप-पांच स्थानों पर फिरंगी कंपनियों का कब्ज़ा रहा।  सैमसंग (25.1 प्रतिशत) पहले स्थान पर रही। उसके बाद शाओमी (10.7 प्रतिशत) दूसरे, लेनोवो (9.9 प्रतिशत) तीसरे, ओप्पो (8.6 प्रतिशत) चौथे व वीवो (7.6 प्रतिशत) पांचवें स्थान पर रही। पिछले साल शाओमी ने चौथी तिमाही में शाओमी का बाजार में 3.3 प्रतिशत हिस्से पर कब्ज़ा था।

बात करें ऑनलाइन सेल की तो चौथी तिमाही में कुल 31.2 प्रतिशत स्मार्टफोन ऑनलाइन बिके। इनमें शाओमी और लेनोवो की हिस्सेदारी पचास प्रतिशत से ज्यादा रही।  2016 की पूरी साल की बात करें तो पिछले साल की तुलना में इस साल 5.2 प्रतिशत ज्यादा बिक्री हुई और कुल 109.1 मिलियन यूनिट बिके।

बात करें शाओमी की तो जुलाई 2014 में भारत में अपना कारोबार शुरू करने वाली कंपनी ने अपनी लगातार बढ़त बनाई रखी है। रेडमी सीरीज़ के बजट स्मार्टफोन रेडमी 3एस, रेडमी 3एस प्राइम और रेडमी 3एस प्लस की मदद से कंपनी ने इस कैटेगरी में दूसरी कंपनियों को कड़ी टक्कर दी है। 
लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें।
Unboxed Mobiles

संबंधित ख़बरें

 
 
 

Advertisement

Unboxed Mobiles